Hamar Goth

बारसूर: इंद्रावती के तट पर हिंदू सभ्यता का खोया हुआ नगर

बारसूर: इंद्रावती के तट पर हिंदू सभ्यता का खोया हुआ नगर

दंतेवाड़ा जिले के जगदलपुर से लगभग 75 किलोमीटर दक्षिण-पश्चिम में, इंद्रावती नदी के तट पर बसा बारसूर का गाँव एक समय हिंदू सभ्यता का प्रमुख केंद्र हुआ करता था। माना जाता है कि यहाँ कभी 147 मंदिर और उतनी ही तालाब हुआ करते थे। 10वीं और 11वीं शताब्दी के इन मंदिरों के अवशेष आज भी देखे जा सकते हैं, जो कि एक हज़ार साल से भी ज़्यादा पुराने हैं। इनमें भगवान विष्णु की कुछ बेहद खूबसूरत मूर्तियां भी शामिल हैं।

एक शिव मंदिर में 12 नक्काशीदार पत्थर के खंभों के बाहरी हिस्से पर नग्न मूर्तियां बनी हुई हैं। एक अन्य शिव मंदिर में 32 नक्काशीदार पत्थर के खंभे, काले ग्रेनाइट से बना नंदी का बैल, और एक साझा प्रांगण के साथ दो गर्भगृह हैं। स्थानीय रूप से मामा-भांजा-का-मंदिर के नाम से जाना जाने वाला यह 50 फीट ऊंचा मंदिर अच्छी स्थिति में है, लेकिन इसमें कोई मूर्ति नहीं है। यह स्पष्ट नहीं है कि यह मंदिर किस देवता को समर्पित था, या यह कभी अभिषेक हुआ भी था या नहीं।

हालांकि, सबसे बड़ा आकर्षण गणेश मंदिर है। मंदिर स्वयं खंडहर में है, लेकिन महागणपति के स्वरूप में गणेश की दो बलुआ पत्थर की मूर्तियां आश्चर्यजनक रूप से बरकरार हैं। इनमें से बड़ी मूर्ति, और अधिक प्रभावशाली, लगभग 8 फीट ऊंची और 17 फीट से अधिक चौड़ी है।

बारसूर के मंदिर

बारसूर के मंदिरों में भगवान शिव, भगवान विष्णु और देवी दुर्गा की मूर्तियां हैं। इन मंदिरों की वास्तुकला और मूर्तिकला अत्यंत सुंदर और कलात्मक हैं। बारसूर के कुछ प्रमुख मंदिरों में शामिल हैं:

  • गणेश मंदिर: यह बारसूर का सबसे प्रसिद्ध मंदिर है। इस मंदिर में महागणपति के रूप में गणेश की दो विशालकाय मूर्तियां हैं, जो लगभग 8 फीट ऊंची और 17 फीट चौड़ी हैं।
  • मामा भांजा मंदिर: यह मंदिर 50 फीट ऊंचा है और इसकी दीवारों पर भगवान शिव और देवी पार्वती के साथ कई अन्य देवताओं की मूर्तियां हैं।
  • शिव मंदिर: इस मंदिर में 12 नक्काशीदार पत्थर के खंभे हैं, जिनके बाहरी हिस्से पर नग्न मूर्तियां बनी हुई हैं।

बारसूर के तालाब

बारसूर में 147 तालाब थे, जिनमें से कुछ आज भी मौजूद हैं। इन तालाबों का उपयोग सिंचाई और पीने के पानी के लिए किया जाता था। बारसूर के कुछ प्रमुख तालाबों में शामिल हैं:

  • बड़ा तालाब: यह बारसूर का सबसे बड़ा तालाब है। इस तालाब की परिधि लगभग 2 किलोमीटर है।
  • छोटा तालाब: यह बारसूर का दूसरा सबसे बड़ा तालाब है। इस तालाब की परिधि लगभग 1 किलोमीटर है।

बारसूर का प्राकृतिक सौंदर्य

बारसूर का इतिहास सदियों का रहस्य समेटे हुए है। मंदिरों के खंडहर और मूर्तियों की कलाकृतियां एक समृद्ध अतीत की कहानी कहती हैं। प्राचीन मंदिरों के साथ-साथ, बारसूर आसपास के जंगलों के लिए भी जाना जाता है। ये जंगल वन्यजीवों और प्राकृतिक सौंदर्य से भरपूर हैं। बारसूर में पाए जाने वाले कुछ प्रमुख वन्यजीवों में बाघ, तेंदुआ, हाथी, भालू, हिरण और पक्षी शामिल हैं।बारसूर की यात्रा इतिहास, पुरातत्व और प्रकृति प्रेमियों के लिए एक अविस्मरणीय अनुभव हो सकती है।

Advertisement - HG

Related Articles